Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2021

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

"पुलिसवाले कहते हैं - पहले गाड़ी में डीजल डलवाओ फिर ढूंढेंगे तुम्हारी बेटी" - दिव्यांग महिला का पुलिस पर आरोप

  उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में लगभग हर रोज आपराधिक घटना के नए-नए केस हो रहे हैं।और उन अपराधियों को पकड़ने के लिए कानपुर की पुलिस बार-बार फेल हो रही है। कानपुर के डीआईजी के दफ्तर के बाहर एक दिव्यांग महिला ने रो-रोकर अपनी बच्ची को ढूढ़ने की गुहार लगा रही थी। और उस पीड़िता की माँ जोर -जोर से कह रही थी कि साहब एक महीने चला गया है, अब तो हमारी बच्ची से हमें मिलवा दो। महिला का कहना है कि साहब जब पुलिस वालों ने बच्ची को ढूढ़ने के लिए डीजल के पैसे मांगे थे, वह भी दिए थे मैंने। फिर भी मेरी बच्ची को पुलिस वालों ने नहीं ढूंढा। उस पीड़ित दिव्यांग महिला की गुहार सुनकर डीआईजी कानपुर डॉ. प्रीतिंदर सिंह भी दंग रह गए। उन्होंने पीड़ित विकलांग महिला को बैठाकर उसे पानी पिलाया। इसके बाद उसकी समस्या को सुना और जल्द से जल्द बच्ची को तलाशने का आश्वासन भी दिया। बच्ची की पीड़ित माँ ने कहा, की पुलिस वालों ने धमकाया 'कई बार वो कहते हैं कि चल यहां से। मैंने पुलिस को रिश्वत नहीं दी है, मैं झूठ नहीं बोलूंगी। लेकिन हां, मैंने उनकी गाड़ियों में डीजल भरवाया है। मैंने उन्हें 3-4 बार के लिए पैसा दिया है। उस पुलिस चौकी