Skip to main content

कोरोना वैक्सीन को लेकर उठ रहे सवालों के बीच भारत बायोटेक का ऐलान : साइड इफेक्ट हुआ तो देंगे मुआवजा

 


देश में कोरोना वायरस के खिलाफ टीका लगाने का अभियान 16 जनवरी शनिवार सुबह से शुरू हो गया। कांग्रेस सरकार ने वैक्सीन पर अनेक सवाल खड़े किए और कांग्रेस पर पलटवार करते हुए भारत बायोटेक ने बड़ा ऐलान किया। कोवैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक का कहना है कि यदि इससे साइड इफेक्ट होता है तो फिर कंपनी की तरफ से उसे मुआवजा मिलेगा। भारत बायोटेक से केंद्र सरकार ने 55 लाख खुराकें अभी खरीदी हैं और शनिवार से शुरू हुए टीकाकरण में उसका इस्तेमाल भी हो रहा है। 

टीका लगवाने वाले लोगों द्वारा जिस फॉर्म पर हस्ताक्षर किए जा रहे हैं, उस पर भारत बायोटेक ने कहा है, ''किसी प्रतिकूल या गंभीर प्रतिकूल प्रभाव की स्थिति में आपको सरकारी और अधिकृत केंद्रों और अस्पतालों में मान्यताप्राप्त देखभाल दी जाएगी।'' सहमति पत्र के अनुसार, अगर टीके से गंभीर साइड इफेक्ट होने की बात साबित होती है तो मुआवजा बीबीआईएल द्वारा दिया जाएगा।

कोवैक्सीन के टीकाकरण के पहले और दूसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण में कोविड-19 के खिलाफ एंटीडोट विकसित होने की पुष्टि हुई है। , टीके के मेडिकल रूप से प्रभावी होने का तथ्य अभी टीका निर्माता कंपनी के मुताबिक अंतिम रूप से स्थापित नहीं हो पाया है तथा इसके क्लिनिकल ट्रायल में फेज की स्टडी की जा रही है।

इसमें कहा गया है, ''इसलिए यह जान लेना आवश्यक है कि टीका लगाने का मतलब यह नहीं है कि कोविड-19 संबंधी अन्य सावधानियों को नहीं बरता जाए।'' इस क्षेत्र के एक विशेषज्ञ का कहना है की टीका अभी क्लिनिकल ट्रायल के चरण में ही है इसलिए यदि किसी को गंभीर दुष्प्रभाव होते हैं तो मुआवजा देना कंपनी की जिम्मेदारी बनती है। वहीं, भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) की संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा एल्ला ने ट्वीट किया कि कोवैक्सीन और भारत बायोटेक, देश और कोरोना योद्धाओं की सेवा करके सम्मानित और कृतज्ञ महसूस कर रहे हैं।

देश में दो कंपनियों के टीकों को पिछले दिनों मंजूरी दी गई थी। डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी है। भारत में सबसे पहले  कोरोना टीकाकरण में हेल्थ वर्कर्स को टीका लगाया जा रहा है। आज तीन लाख हेल्थ वर्कर्स को टीका लगाया जाना है। दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की शुरुआत शनिवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है। वहीं, बुजुर्ग लोगों का टीकाकरण हो जाने के बाद देश के अन्य लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी।

कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कोरोना टीकाकरण पर सवाल खड़े किए। उन्होंने भारत के बायोटेक के टीके पर कहा कि कई जाने -माने डॉक्टरों ने सरकार के सामने कोवैक्सीन के प्रभावी और सुरक्षा के संबंध में सवाल खड़े किए हैं और कहा है कि वे नहीं चुन सकेंगे कि उन्हें कौन सी वैक्सीन लेनी है। यह सहमति के पूरे सिद्धांत के खिलाफ जाता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने कहा कि कोवैक्सीन की एक अलग ही कहानी है। उसे अच्छी तरह से जांचे बिना ही मंजूरी दी गई है।

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

नाबालिग प्रेमी जोड़े ने की आत्महत्या - रिश्ते में भाई-बहन थे दोनों

  उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उझानी क्षेत्र में एक गांव के लड़का लड़की ने आत्महत्या कर ली रिश्ते में वो ममेरे-फुफेरे भाई बहन थे और उन दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था। एक गांव के 17 वर्षीय युवक का गांव में ही रहने वाली अपनी 16 वर्षीय फुफेरी बहन से प्रेम प्रसंग चल रहा था।कुछ दिन पहले एक ग्रामीण ने उन दोनों को साथ बैठे बातचीत करते देख लिया था।  जब उनके घर वालो को इस बात का पता चला की उन दोनों में इस प्रकार का अवैध संबंध है तो वो दोनों डर गए और दोनों ने मरने का फैसला ले लिया और मरने से पहले दोनों ने अपने -अपने परिजनों को बता दिया था की वो दोनों घर नहीं आना चाहते। ऐसी ही बातें प्रेमिका ने अपने पिता को फोन कर कहीं। प्रेमिका ने अपने पिता से यह तक कह दिया कि वह रिश्ते में खोट कर बैठी है, इसलिए प्रेमी के साथ ही जान दे रही है। इसके बाद उनके परिवार वालों में खलबली मच गई।  दो घंटे बाद करीब पांच बजे परिवार वाले ढूंढते हुए तालाब के पास पहुंचे तो पेड़ पर दोनों के शव फंदे से झूलते मिले। प्रधान से घटना की जानकारी मिलने पर प्रभारी निरीक्षक विशाल प्रताप सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और शव को

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स