Skip to main content

एलन मस्‍क : दुनिया के सबसे अमीर आदमी - 8 कंपनी, 3 शादियां और एक सेकेंड की कमाई....

 


टेस्ला कंपनी के सीईओ एलन मस्क ने दुनिया के सबसे अमीर आदमी अमेजन के जेफ बेजॉस को पीछे छोड़ दिया है। आज के दिन वो दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन गए हैं. एलन मस्क की कुल पूंजी 188 बिलियन यूएस डॉलर से अधिक है, जो कि अमेजन के संस्थापक जेफ बेजॉस की नेटवर्थ 187 बिलियन यूएस डॉलर से एक बिलियन डॉलर ज्यादा है। आज के दिन जो दुनिया के सबसे अमीर इंसान बने हैं उन्होंने जिंदगी के संघर्षों को झेलते हुए कम बोला और ज्‍यादा किया है। इनकी जिन्‍दगी की कई बातें ऐसी हैं जिसे हर युवा को सीखना चाहिए।


एलन मस्क का जन्म दक्षिण अफ्रीका में हुआ था. वे 17 साल की उम्र में कनाडा आ गए थे। ग्रंज वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, एलन बचपन में इतने आत्मविश्लेषी थे कि उनके पेरेंट्स ने डॉक्टर्स को दिखाया था कि कहीं वे बहरे तो नहीं हैं। एलन की मां का  मानना था कि वो डे ड्रीम यानी दिन में काफी सपने देखते हैं। उनकी मां ने एक इंटरव्यू में कहा था कि कई बार ऐसा होता था कि वो अपनी ही दुनिया में खो जाता था और उसे आसपास की सुधबुध नहीं रहती थी। पहले मैं परेशान हो जाती थी लेकिन अब मैं उसे अकेला छोड़ देती हूं क्योंकि मुझे पता है कि वो अपने दिमाग में कोई अलग ही करने की सोच रहा है।

एलन का अपने पिता के साथ अच्छे संमबन्ध नहीं रहें है. एलन के पिता कभी उनके ड्रीम्स सपोर्ट नहीं करते थे और एलन कह चुके हैं कि उनका बचपन तकलीफों से भरा रहा है। एलन ने कई दफा अपने पिता से बातचीत भी बंद की। एक बार एलन के पिता ने अपने घर में घुसे तीन चोरों को गोली भी मार दी थी। 


बचपन से कुशाग्र बुद्ध‍ि के रहे एलेन 9-10 साल की उम्र से ही कंप्यूटर प्रोग्रामिंग सीखने लगे थे। एलन ने स्पेस थीम से जुड़ा एक कंप्यूटर गेम बना दिया था और इसे एक कंप्यूटर मैगजीन को 500 डॉलर्स में बेच दिया था। इस गेम का नाम ब्लास्टार था और इसे आज भी ऑनलाइन खेला जा सकता है। एलन का बचपन में ज्यादातर समय किताबों में ही जाता था। वे 10-10 घंटे तक किताबों में ही रमे रहते थे. रिपोर्ट्स के अनुसार, एलन ने इनसाइक्लोपिडीया ब्रिटैनिका को नौ साल की उम्र में खत्म कर दिया था और फिर उनकी दिलचस्पी साइंस फिक्शन उपन्यासों में बढ़ने लगी थी।


कई जगह एलन ने इस घटना का जिक्र क‍िया है जब बचपन में उन्‍हें दूसरे छात्रों द्वारा नीचा दिखाया जाता था। एक बार कुछ लड़कों ने उन्हें सीढ़ियों से नीचे गिरा दिया था जिसके बाद उन्‍हें अस्पताल जाना पड़ा था। वहीं एक बार उन्हें इतना मारा गया था कि उनकी जान जा सकती थी। यही कारण है कि एलन ने कराटे और जूडो की ट्रेनिंग 15 साल की उम्र में ली थी।

 एलन मस्क दक्षिण अफ्रीका में मिलिट्री जॉइन नहीं करना चाहते थे, इसलिए कनाडा आ गए थे। वे पीएचडी करने के लिए स्टेनफॉर्ड यूनिवर्सिटी गए थे लेकिन वे महज दो दिनों में ही इस यूनिवर्सिटी से वापस आ गए। दरअसल एलन ने 90 के दौर में इंटरनेट बूम का फायदा उठाने के लिए ये फैसला लिया था।


उनकी पर्सनल लाइफ की बात करें एलन मस्क ने कनाडा की लेखिका जस्टिन के साथ साल 2000 में शादी रचाई थी। ये रिश्ता आठ साल तक चला था। 2008 में एलन और जस्टिन का तलाक हो गया था. इसके बाद उन्होंने ब्रिटिश एक्ट्रेस तालुला राइली के साथ साल 2010 में शादी रचाई थी. हालांकि दो साल बाद ही दोनों का रिश्ता खत्म हो गया था। लेकिन उन्होंने एक बार फिर साल 2013 में शादी रचाई लेकिन तीन साल बाद वे फिर अलग हो गए थे। इसके बाद एलन और सुपरस्टार एक्ट्रेस एंबर हर्ड के रिलेशनशिप को मी़डिया में काफी सुर्खियां मिलीं लेकिन दोनों ने अपने बिजी शेड्यूल के चलते जल्द ही ब्रेकअप कर लिया था।


एलन मस्क के पहली पत्नी जस्टिन से 6 बच्चे हैं जिनमें से एक बच्चे की मौत हो गई थी. ये पांचों लड़के ही हैं। एलन और उनकी गर्लफ्रेंड का इसी साल मई में बेटा पैदा हुआ है। उन्होंने इसका नाम X Æ A-12 रखा है जिसे उन्होंने बाद में बदलकर X Æ A-Xii कर दिया था. एलन इसके चलते सोशल मीडिया पर काफी वायरल भी हुए थे।

एलन मस्‍क की कमाई के बारे में कहा जाता है क‍ि वो हर सेकेंड 67 लाख रुपये कमाते हैं। इसके बावजूद उनके मन में नये आइड‍ियाज को लेकर गुंजाइश बनी रहती है। बेबाक अंदाज, ऊर्जावान एलन को सोशल मीडिया पर भी खूब पसंद क‍िया जाता है।

एलन मस्क अब तक आठ कंपनियों के मालिक रह चुके हैं जिनमें स्पेस एक्स, टेस्ला, हायपरलूप और बोरिंग कंपनी जैसी कंपनियां शामिल हैं। उन्हें बोरिंग कंपनी का आइडिया तब आया था जब वे अमेरिका में ट्रैफिक के बीच काफी परेशान हो गए थे। 2016 में उन्होंने ट्वीट किया था कि वे ट्रैफिक से बचने के लिए अंडरग्राउंड सुरंगों का इस्तेमाल करेंगे लेकिन ऐसा करना काफी महंगा है और उनकी कंपनी अपनी तकनीक और स्मार्ट इंजीनियरिंग के सहारे इसी काम में लगी है।


Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित