Skip to main content

क्या किसान आंदोलन की आड़ में हो रही है किसानो की छवि बिगाड़ने की कोशिश ?

 

किसान आंदोलन अपने चरम पर है। पांच बार भाई सरकार से वार्ता के बावजूद किसानो की मांगो को लेकर अभी तक कोई निष्कर्ष नहीं निकल पाया है। किसान अपनी मांगो को लेकर झुकने को तैयार नहीं है जिसके चलते कल 8 दिसम्बर को किसानो ने भारत बंद का एलान किया है। किसान आंदोलन जैसे जैसे बढ़ता जा रहा है वैसे ही मन में कुछ संशय भी अब पैदा होने लगे है। किसान आंदोलन जब शुरू हुआ तो उसमे शामिल होने वाले निश्चित तौर पर किसान ही थे लेकिन अब बहुत सी राजनितिक पार्टियों के प्रतिनिधि भी उससे जुड़ने लगे है ताकि वो लोग भी इसकी आड़ में अपनी राजनीति की दूकान अच्छे से चमका सके। कुछ सस्ती TRP के चक्कर में फर्जी समाजसेवी भी आपको यहां फोटो लेते हुए दिख जाएंगे।


हजारो किसान टिकरी बॉर्डर और सिंधु पर अपनी मांगो को लेकर अड़े हुए है। अब इतनी बड़ी भीड़ को देखकर राजनीतिक भेड़िये तो आएंगे ही क्योंकि उन के लिए तो यह किसी मौके से कम नहीं है क्योंकि जो भीड़ वो अपनी रैलियों में पैसे खर्च करके भी नहीं जुटा पाते वो उनको बैठे बिठाये मिल गई। जो आंदोलन किसानो की मांगो से शुरू हुआ था वो अब पूर्ण रूप से राजनितिक रंग से रंगा हुआ प्रतीत होता है। 


बात यही खत्म हो जाती तो भी सही था क्योंकि राजनीति तो कही न कही हर वर्ग पर हावी रहती है और विपक्ष कोई भी सरकार के साथ हो ही नहीं सकता। मै किसानो की मांगो या कृषि कानून को सही या गलत नहीं बता रहा हु वो तो किसानो और सरकार दोनों को अपना अपना पक्ष ज्यादा बेहतर पता है। खैर चिंता की बात यह है कि किसान आंदोलन अब देश का मुद्दा न रह कर अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा बन गया है और इसमें शामिल होकर कई विदेशी ताकत हमारे देश को कमजोर करना चाहती है। 


अभी हाल ही में ब्रिटेन में स्थित भारतीय दूतावास के सामने प्रदर्शन किया गया और उसमे खालिस्तान के झंडे लहराए गए। ऐसी ही खबरे और जगहों से भी आई। एक बार फिर से भारत को तोड़ने और खालिस्तान की स्थापना की आवाजे उठने लगी है। आज सुबह भी दिल्ली पुलिस ने 5 आंतकी गिरफ्तार किये जिनका सबंध खालिस्तान से है। अब किसान आंदोलन सच में डरा रहा है कही कुछ देशद्रोही ताकते हमारे भोले किसानो को ढाल बना कर देश का माहौल और इन भूमिपुत्रो की छवि हमेशा के लिए ना बिगाड़ दे।

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित