Skip to main content

कैसे मोदी ने SC/ST एक्ट में फेरबदल कर सुप्रीम कोर्ट का ही फैसला बदल दिया

 

राजीव गांधी सिर्फ कम्प्यूटर ही नहीं लाये थे बल्कि और भी बहुत कुछ लाये थे 
राजीव गांधी एट्रोसिटी (एससी/एसटी) एक्ट भी लाये थे और इस एक्ट में संज्ञेय अपराधों की संख्या उन्होंने रखी थी कुल 22

फिर दलितों को सामाजिक सुरक्षा देने वाले इस एक्ट का दुरुपयोग होने लगा इस एक्ट के रुझान आने शुरू हुए . लोग खेतों की मेड़ और रास्ते से ले के चुनावी और निजी खुन्नस आपस मे इस एक्ट के माध्यम से निकालने लगे

सवर्ण बनाम सवर्ण ….
सवर्ण बनाम ओबीसी ….
ओबीसी बनाम ओबीसी ….

इन वर्ग के झगड़ों में भी लोग अपने परिचित एससी/एसटी जाति वाले के माध्यम से सामने वाली पार्टी पर फर्जी मुकदमे करवा के निजी खुन्नस निकालने लगे

3 साल पहले माननीय सुप्रीम-कोर्ट ने कहा कि हमारे पास एट्रोसिटी एक्ट के आने वाले मुकदमे 90% फ़र्ज़ी पाये जाते हैं इसलिए पुलिस ऐसे मामलों में तत्काल आरोपितों की गिरफ्तारी ना कर के पहले मामले की विस्तृत छानबीन करे
लेकिन 
देश की बागडोर 3 साल पहले और आज भी दलितों के मसीहा दलितेन्द्र जी के हाथों में थी

दलितों के मसीहा दलितेन्द्र जी ने सदन में ऑर्डिनेंस ला के माननीय सुप्रीम-कोर्ट के इस फैसले को ना सिर्फ बदला बल्कि संज्ञेय अपराधों की संख्या भी 22 से बढ़ाकर 47 कर दी …. और साथ ही यह व्यवस्था भी कायम रखी कि दलितों द्वारा एट्रोसिटी एक्ट में मुकदमा दर्ज करवाते ही आरोपितों की तत्काल गिरफ्तारी हो

मैंने और कुछ जागरूक मित्रों ने जब दलितेन्द्र सरकार के इस नमो एक्ट का विरोध किया तो हमारी ही जाति मन्ने सवर्ण जाति या ब्राह्मण राजपूत बणिया जाति के चाटुकारों ने हमें खूब गालियां दी

हमें देशद्रोही गद्दार वामपंथी कांग्रेसी बिकाऊ दलाल कहा
ओबीसी वर्ग वाले चाटूकारों ने भी हमें खूब गालियां दी थी जबकि एट्रोसिटी एक्ट के सबसे ज्यादा मामले ही ओबीसी वर्ग पर दर्ज होते हैं
दलितेन्द्र जी की हर नीति के परिणाम दूरगामी होते हैं
हाथरस वाले प्रकरण में चारों आरोपी निर्दोष है या दोषी इसका फैसला तो अब न्यायालय में होगा लेकिन चारों आरोपितों पर एससी/एसटी एक्ट की धाराएं भी लगी है इस प्रकरण में
इसलिए मेरा सिद्धांत और उसूल है

मैं सरकार के साथ नहीं बल्कि सामाजिक मुद्दों पर अपने समाज के साथ खड़ा होता हूँ  बेशक समाज लाख गलत हो या लाख सही हो

मुझपे जब मुसीबत आएगी मेरे साथ कोई भाजपा कांग्रेस सरकार सांसद विधायक मंत्री खड़ा नहीं होगा मेरे जिले में हर तीसरा घर जाट का है और हर चौथा घर राजपूत का है एवं हर दूसरा घर ब्राह्मण बणिया ओबीसी का है
यही लोग मेरे साथ मुसीबत में खड़े होंगे ….
हाथरस से तो रुझान आने शुरू हुए हैं पूरी फिल्म अभी बाकी है!!

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

नाबालिग प्रेमी जोड़े ने की आत्महत्या - रिश्ते में भाई-बहन थे दोनों

  उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उझानी क्षेत्र में एक गांव के लड़का लड़की ने आत्महत्या कर ली रिश्ते में वो ममेरे-फुफेरे भाई बहन थे और उन दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था। एक गांव के 17 वर्षीय युवक का गांव में ही रहने वाली अपनी 16 वर्षीय फुफेरी बहन से प्रेम प्रसंग चल रहा था।कुछ दिन पहले एक ग्रामीण ने उन दोनों को साथ बैठे बातचीत करते देख लिया था।  जब उनके घर वालो को इस बात का पता चला की उन दोनों में इस प्रकार का अवैध संबंध है तो वो दोनों डर गए और दोनों ने मरने का फैसला ले लिया और मरने से पहले दोनों ने अपने -अपने परिजनों को बता दिया था की वो दोनों घर नहीं आना चाहते। ऐसी ही बातें प्रेमिका ने अपने पिता को फोन कर कहीं। प्रेमिका ने अपने पिता से यह तक कह दिया कि वह रिश्ते में खोट कर बैठी है, इसलिए प्रेमी के साथ ही जान दे रही है। इसके बाद उनके परिवार वालों में खलबली मच गई।  दो घंटे बाद करीब पांच बजे परिवार वाले ढूंढते हुए तालाब के पास पहुंचे तो पेड़ पर दोनों के शव फंदे से झूलते मिले। प्रधान से घटना की जानकारी मिलने पर प्रभारी निरीक्षक विशाल प्रताप सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और शव को

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स