Skip to main content

सेल्फ डिफेंस में काम आने वाले वो हथियार जिनसे आप कर सकते है खुद की सुरक्षा

 


सभी लड़कियां, ध्यान से सुने

1. तुम अबला नही हो। पुरुष से ज्यादा ताकत है तुममें। तुम्हारे एक हुंकार से डर लगता है हमें। पुरूष अगर किसी से डरता है तो वह है औरत, नारी। इसलिए हमारी मानसिकता को समझो। जहां, जब वास्तव में जरूरत हो, काली चंडी बन जाओ। फाड़ डालो। बाद में हम देख लेंगे।

2. अबला की तरह गिड़गिड़ाओ मत। दहाड़ लगाना सीखो, दहाड़ने की प्रैक्टिस करो। पूरी ताकत से क्यायायायाsssss बोलो अभी, अभी के अभी। आवाज छत में टकरा कर लौटनी चाहिए। कराटे का मुख्य डिफेंस है मुँह से “क्या” की आवाज निकालना। गुरु जी ने कहा था बिना शिष्य बनाये किसी को न बताना। किन्तु तुम्हारे लिए गुरु के वचन को तोड़ रहा हूँ।

3. सेल्फ डिफेंस करना सीखो। पता है मुश्किल है। तो सेल्फ डिफेंस का एक बेहतरीन उपकरण तुमको सुझा रहा हूँ। सदा पर्स में रखना। खतरा भांपते ही ऑन करके हाथ मे कस कर पकड़ लेना। कोई तुम्हारे पास भी आये तो बेहिचक उसकी स्किन को टच कर देना बस एक बार। 10 मिनट के लिए दरिंदे को लकवा मार जाएगा। 20 हजार वाट का करंट उसकी सारी गर्मी पिछवाड़े में घुसा देगा। उपकरण का नाम है सेल्फ डिफेंस शॉक गन। लीगल है। बस खरीद लो। फुल चार्ज करके पर्स में डाल लो। हर हफ्ते निकाल कर चार्जिंग चेक कर लो। चाइनीज आयटम है, इंडियन से बेहतर है । खरीद लो। मैं सिर्फ इसके भरोसे तीन डकैतों से भिड़ गया था अर्ध रात्रि में। उधरिच घूसड गए थे।

4. एयर गन खरीदो। muzzle energy 20 jule और 0.177 कैलिबर की एयर गन के लिए लाइसेंस की आवश्यकता नही। यह लीगल है। इससे पक्षियों और कुत्ते को कभी मत मारना। मेरा श्राप लगेगा। बस इसको लेकर पोलिस स्टेशन जाओ। डील वुड टेस्ट पास करवा लो। सर्टिफिकेट ले लो और बैग में रख लो चुपचाप। 0.177 कैलिबर की मेटल पेलेट 1 मीटर से खोपड़ी में छेद करने के लिए काफी है। करो भाई कुछ तो करो। खोपड़ी में छेद कर दो। खोपड़ी में 0.177 कैलिबर की पेलेट घुसडते ही दरिंदा मरेगा नही सदा के लिए पागल हो जाएगा। अव्वल तो हाथ में गन देखकर और मुंह से दहाड़ सुनकर कोई अंधेरे में भी पास आने की हिम्मत न करेगा।

मेरी बेटियों, हमे माफ करना। हम पुरुष अशक्त हो गए हैं। अब दरिंदो से अपनी सुरक्षा तुमको स्वयम ही करनी होगी।

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित