Skip to main content

यूपी पुलिस के अजब गजब कारनामो की दास्तान,जिन्हें पुलिस ने मृत मान लिया वो ज़िंदा होकर आ गये

 

हाथरस पुलिस ने एक बयान जारी किया है 
लिखते हैं

लड़की की रीढ़ की हड्डी टूटी नहीं है बल्कि गला दबाने के कारण ठीक काम नहीं कर रही थी …. मेडिकल रिपोर्ट में लड़की की आंख फूटने या जीभ काटने का नहीं लिखा है बल्कि गला दबाते वक़्त लड़की की जीभ बाहर निकली और दांतों से कट गयी ….
सोशल-मीडिया पर भ्रामक खबरें फैलाने वालों पर कड़ी कार्यवाही होगी

(हाथरस घटना पर यह मेरी दूसरी पोस्ट है और मैं अपनी दोनों पोस्ट नहीं हटाऊंगा …. हाथरस पुलिस मुझपे कार्यवाही के लिए स्वतंत्र है) ….
अब कुछ रोचक तथ्य देखिये
नेशनल क्राइम ब्यूरो के ताजा आंकड़े कहते हैं उत्तरप्रदेश में अपराध व उसमें भी महिलाओं के विरुद्ध अपराध बहुत ज्यादा बढ़ गया है ….
कमलेश तिवारी की हत्या हुई तो उत्तरप्रदेश के गृह-सचिव व आला पुलिस अधिकारियों ने इसे आपसी रंजिश का मामला कह के पल्ला झाड़ लिया

भला हो गुजरात एटीएस का जिसने मुस्लिम आरोपियों को पकड़ के पूरे मामले का खुलासा किया
2 माह पहले गोरखपुर बरेली में तो वो मृतक वापस घर लौट आये हैं जिनको उत्तरप्रदेश पुलिस ने मृत बता के जांच ही बन्द कर दी ….

बरेली जनपद की एक लड़की को उत्तरप्रदेश पुलिस ने मृत बताया था 2 माह पहले और उसकी लाश भी बरामद कर ली और हत्या के आरोप में लड़की के भाई बाप या ससुर देवर को अरेस्ट कर के जेल भी भेज दिया था

कुछ दिन बाद वह मृत लड़की सकुशल घर लौट आयी जिसकी लाश उत्तरप्रदेश पुलिस ने बरामद की थी

ऐसे ढेर मामले तो घटित हुए हैं उत्तरप्रदेश में लास्ट 6 माह में जो मेरे संज्ञान में है ….
इसी उत्तरप्रदेश में विकास दूबे इतनी बड़ी संगीन वारदात कर के उत्तरप्रदेश की सीमा पार कर के दिल्ली हरियाणा मध्यप्रदेश तक चला गया और उत्तरप्रदेश पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे
भला हो उज्जैन/मध्यप्रदेश पुलिस का जिसने विकास दूबे को अरेस्ट कर के उत्तरप्रदेश पुलिस की इज्जत रख ली

कानपुर अपहरण कांड में उत्तरप्रदेश पुलिस ने कैसे अपनी छीछालेदर करवायी देश ने अभी देखा है ….
प्रदेश में अफसरशाही हावी हो गयी है ….

माननीय मुख्यमंत्री जी को प्रदेश के ब्यूरोक्रेट्स कहते होंगे साब अभी तो दिन है (जबकि उस वक़्त रात हो) या साब अभी रात है (जबकि उस वक़्त दिन हो) …. तो बाबाजी आंख बंद कर के उसे सच मान लेते हैं

माननीय मुख्यमंत्री जी गलत लोगों एवं चाटुकारों से घिर गए हैं शायद ऐसा मुझे प्रतीत होता है

माननीय मुख्यमंत्री जी शायद कानों के भी कच्चे हैं एवं किसी भी चाटुकार की सही गलत किसी भी बात को आंख मूंद के मान लेते हैं ऐसा मुझे प्रतीत होता है

जिन संगीन वारदातों में सिपाही एसएचओ एसओ से ले के आईजी-रेंज तक पर गाज गिरनी चाहिए उन घटनाओं में बाबाजी एसएचओ एसओ के निलंबन तक सीमित रहते हैं …. ज्यादा दबाव हो तो उच्च-अधिकारियों का ट्रांसफर …. जिला बदल दो विभाग बदल दो ….

फरवरी 2022 में उत्तरप्रदेश के चुनाव हैं ….

एक साल से उत्तरप्रदेश की हर आपराधिक सामाजिक धार्मिक राजनीतिक घटनाओं पर नजरें है मेरी …. हमने मायावती अखिलेश सरकार के समय उत्तरप्रदेश की राजनीति देखी समझी है करीब से
उत्तरप्रदेश की राजनीति पर गहरी पकड़ रखता हूँ बस लिखना बन्द किया है वरना 2017 विधानसभा चुनाव में मैंने उत्तरप्रदेश पर इतना लिख डाला था जो हर फेसबुक व्हाट्सएप्प ग्रुप्स में रोज धूम धड़ाके से वायरल होता था

लोगों को इंतजार रहता था मेरी हर पोस्ट्स का

रोज़ 10 पोस्ट्स कर के अपनी पुरानी आईडी पर 10K से 15K लाइक्स शेयर्स उठाता था

इसी 2017 के उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में सपा सरकार के मंत्री गायत्री प्रजापति (जिस पर बलात्कार के उस वक़्त आरोप लगे थे अब आजकल वो कहाँ कैसे है मुझे मालूम नहीं) पर मैंने 100 पोस्ट्स की होगी

फेसबुक पर लोग क्या लिखते हैं …. कैसे सरकार को डिफेंड करते हैं …. कैसे सरकार का इक़बाल बुलन्द करते हैं …. मैं इसे इतेफाक नहीं रखता ….

आशा है माननीय मुख्यमंत्री जी अधिकारियों पर अपनी निर्भरता खत्म कर जल्द कुछ बड़े फैसले लेंगे
बाकी हाथरस वाली घटना के बाद बहुत लोग डिफेंसिव मोड में आ गए हैं …. तर्कों वितर्कों सबूतों स्क्रीन-शॉट का दौर चलेगा …. एफआईआर की कॉपी व मेडिकल रिपोर्ट एवं पोस्टमार्टम रिपोर्ट का दौर चलेगा ….
सोशल-मीडिया ट्रायल का दौर चलेगा
हम खुद ही जज वकील गवाह सबूत बन चुके होंगे

जबकि अभी उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश मायावती होते या यही घटना दूसरे राज्य में घटित होती तो सोशल-मीडिया का माहौल अलग होता ….
सोशल-मीडिया निर्भया या सुशांत मामले की तरह भावनाओं आरोपों प्रत्यारोपों से अटा पड़ा होता ….
आशा एवं उम्मीद है अब आदरणीय योगी जी कुछ कठोर कदम उठाकर पुलिस प्रशासन अधिकारियों पर नकेल कसेंगे ….
बलात्कार ना भी हुआ हो विभत्स हत्या तो हुई ही है बच्ची की ….
उम्मीद है अपराधियों पर कठोर कार्यवाही होगी ….
बेशक टीयूवी पलटे या हैदराबाद पार्ट टू हो!!

Comments

Popular posts from this blog

नाबालिग प्रेमी जोड़े ने की आत्महत्या - रिश्ते में भाई-बहन थे दोनों

  उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उझानी क्षेत्र में एक गांव के लड़का लड़की ने आत्महत्या कर ली रिश्ते में वो ममेरे-फुफेरे भाई बहन थे और उन दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था। एक गांव के 17 वर्षीय युवक का गांव में ही रहने वाली अपनी 16 वर्षीय फुफेरी बहन से प्रेम प्रसंग चल रहा था।कुछ दिन पहले एक ग्रामीण ने उन दोनों को साथ बैठे बातचीत करते देख लिया था।  जब उनके घर वालो को इस बात का पता चला की उन दोनों में इस प्रकार का अवैध संबंध है तो वो दोनों डर गए और दोनों ने मरने का फैसला ले लिया और मरने से पहले दोनों ने अपने -अपने परिजनों को बता दिया था की वो दोनों घर नहीं आना चाहते। ऐसी ही बातें प्रेमिका ने अपने पिता को फोन कर कहीं। प्रेमिका ने अपने पिता से यह तक कह दिया कि वह रिश्ते में खोट कर बैठी है, इसलिए प्रेमी के साथ ही जान दे रही है। इसके बाद उनके परिवार वालों में खलबली मच गई।  दो घंटे बाद करीब पांच बजे परिवार वाले ढूंढते हुए तालाब के पास पहुंचे तो पेड़ पर दोनों के शव फंदे से झूलते मिले। प्रधान से घटना की जानकारी मिलने पर प्रभारी निरीक्षक विशाल प्रताप सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और शव को

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स