Skip to main content

जानिये क्या होती है “ओरण भूमि” : क्या आपके गाँव में भी है ऐसी भूमि ?

 

प्राचीन काल से ही राजपूताना में राजे महाराजे रजवाड़े सेठ साहूकार जमींदार जागीरदार एवं भामाशाह जब लोक देवी देवताओं अथवा ग्राम/स्थानीय देवी देवताओं के मंदिरों का निर्माण करवाते थे तो मन्दिर के आसपास की सैंकड़ो बीघा भूमि ओरण के नाम कर देते थे ….

मन्ने देवी देवताओं मन्दिर के नाम (ओरण भूमि) ….

इस भूमि का मालिकाना हक एक प्रकार से प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से मन्दिर एवं मन्दिर के पुजारी के नाम होता था …. उस वक़्त भूमियों के पट्टे जारी नहीं होते थे जो राजाओं महाराजाओं जागीरदारों कोठारियों भण्डारियों ने कह दिया वो ही राजाज्ञा या पट्टा होता था …. राजस्थान में जमीनों के पट्टे रियासतों दरबारों से विगत 400-500 वर्षों से जारी होना शुरू हुए हैं ….

ओरण भूमि का उपयोग ब्राह्मण शुद्र गौ एवं कन्याओं के कल्याण अथवा उत्थान के लिए होता था ….

क्षत्रिय एवं वैश्य वर्ण को ओरण भूमि में हस्तक्षेप या उस भूमि के उपभोग एवं अतिक्रमण का अधिकार दरबारों द्वारा प्रदत्त नहीं किया जाता था ….

चौमासे में ओरण भूमि में घास उगे तो इलाके की गौ-मातायें भेड़ ऊंट बकरियां पशु ओरण भूमि में चर सकते थे …. पक्षियों के लिए दाना ओरण भूमि में डाला जाता था …. गरीब ब्राह्मण पुजारी भोपे शुद्र ओरण भूमि से लकड़ियां काट के चूल्हे का ईंधन ले सकते थे …. गरीब ब्राह्मण शुद्र ओरण भूमि में थोड़ा बहुत अन्न सब्जियां उगा सकते थे …. क्षेत्र की बहन बेटियां खेलने कूदने एवं सावन के झूलों और तीज त्योहारों में ओरण भूमि का उपयोग कर सकती थी ….

ओरण भूमि की उपज एवं आय को दरबारों द्वारा सरकारी रिकॉर्ड में राजस्व एवं लगान से मुक्त रखा जाता था ….
यह हमारी सामाजिक व्यवस्था थी ….

15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ ….

1956 तक राजपूताना की सम्पूर्ण रियासतों का विलय भारत जनसंघ में सम्पन्न हुआ और नए राजस्थान का निर्माण हुआ ….
रियासतों की भूमियों का विलय भारत जनसंघ में हुआ ….

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने नए भू सुधार कानून लागू किये और चकबंदी और जोतों में कृषि भूमि के पट्टे उस भूमि पर जुताई करने वालों के नाम जारी कर दिए …. (चकबंदी में हमारी भी काफी जमीनें दूसरों के नाम दर्ज हो के चली गयी) ….
लेकिन ….

ओरण भूमि की व्यवस्था या पट्टे इंदिरा जी के भू सुधार कार्यक्रम में शामिल नहीं थे ….
राजस्थान में लाखों बीघा भूमि ओरण भूमि है मन्ने मन्दिरो के आसपास की देवभूमि ….
धीरे-धीरे ओरण की जमीनों पर भू माफियाओं और इलाके के प्रभावशाली लोगों नेताओं सरकारी कर्मचारियों अधिकारियों का कब्जा होना शुरू हुआ ….
ओरण भूमि में प्लॉट कटने लगे …. अब तो ओरण भूमि में विशाल कॉलोनियां मोहल्ले बन चुके है पूरे राजस्थान में ….
हमारे यहां भी ओरण भूमियाँ खुर्दबुर्द हो चुकी है ….
जिन राजे रजवाड़ों सेठों साहूकारों जमींदारों जागीरदारों भामाशाहों ने जो भूमियाँ समाज कल्याण एवं कन्या ब्राह्मण शुद्र गौ कल्याण के लिए दी थी वो सब अब अवैध कब्जे से युक्त हो चुकी ….

राजस्थान की लाखों बीघा ओरण भूमियों के हजारों केस मुकदमे राजस्थान की निचली अदालतों से ले के जयपुर जोधपुर हाई-कोर्ट तक लंबित पड़े हैं दशकों से ….
इन मुकदमों का फैसला इतना जल्दी आसानी से आना भी नहीं और सरकारों के संरक्षण से हुआ ये अतिक्रमण भी अब मुक्त होना नहीं है ….

जिन राजाओं महाराजाओं रजवाड़ों सेठों साहूकारों जमींदारों जागीरदारों ने एवं उनके पूर्वजों ने जो भूमि समाज ब्राह्मण शुद्र कन्या गौ कल्याण के लिए छोड़ी थी

ओरण का मतलब होता है देव-भूमि अथवा मन्दिर के आसपास की भूमि 

आज इंटरनेट है और मीडिया सोशल-मीडिया है तो सपोटरा वाली घटना का देश दुनियां को मालूम चला है ….
वरना ….

आजतक ना मालूम कितनी हत्यायों के राज जमींदोज हो चुके है ….
मैं खुद अनेकानेक घटनाओं का साक्षी हूँ!! …

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

"पुलिसवाले कहते हैं - पहले गाड़ी में डीजल डलवाओ फिर ढूंढेंगे तुम्हारी बेटी" - दिव्यांग महिला का पुलिस पर आरोप

  उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में लगभग हर रोज आपराधिक घटना के नए-नए केस हो रहे हैं।और उन अपराधियों को पकड़ने के लिए कानपुर की पुलिस बार-बार फेल हो रही है। कानपुर के डीआईजी के दफ्तर के बाहर एक दिव्यांग महिला ने रो-रोकर अपनी बच्ची को ढूढ़ने की गुहार लगा रही थी। और उस पीड़िता की माँ जोर -जोर से कह रही थी कि साहब एक महीने चला गया है, अब तो हमारी बच्ची से हमें मिलवा दो। महिला का कहना है कि साहब जब पुलिस वालों ने बच्ची को ढूढ़ने के लिए डीजल के पैसे मांगे थे, वह भी दिए थे मैंने। फिर भी मेरी बच्ची को पुलिस वालों ने नहीं ढूंढा। उस पीड़ित दिव्यांग महिला की गुहार सुनकर डीआईजी कानपुर डॉ. प्रीतिंदर सिंह भी दंग रह गए। उन्होंने पीड़ित विकलांग महिला को बैठाकर उसे पानी पिलाया। इसके बाद उसकी समस्या को सुना और जल्द से जल्द बच्ची को तलाशने का आश्वासन भी दिया। बच्ची की पीड़ित माँ ने कहा, की पुलिस वालों ने धमकाया 'कई बार वो कहते हैं कि चल यहां से। मैंने पुलिस को रिश्वत नहीं दी है, मैं झूठ नहीं बोलूंगी। लेकिन हां, मैंने उनकी गाड़ियों में डीजल भरवाया है। मैंने उन्हें 3-4 बार के लिए पैसा दिया है। उस पुलिस चौकी

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स