Skip to main content

पढ़िए क्या कह रही है रिपब्लिक के हेड अर्नब गोस्वामी की कुंडली - ज्योतिष से जानिये अर्नब का भविष्य

 

अर्नब गोस्वामी के तेवर और उनकी तीखी पत्रकारिता को समझना हो तो अरनव की लग्न कुंडली में #बृहस्पति_के_नीच_भंग_राजयोग को समझना पड़ेगा। केंद्र में बैठे हुए बृहस्पति के इस राजयोग के बारे में भारतीय ऋषियों ने कहा है कि ऐसा जातक बिल्कुल जमीन से उठकर आसमान की ऊंचाई तक का सफर तय करता है।

बृहस्पति की महादशा के दौरान अरनव ने पत्रकारिता में प्रवेश किया और उनकी नीव गहराई तक मजबूती से जमती चली गई। बाद में शनि की महादशा में उसने कलम और कैमरे के ऐसे कारनामें दिखाए जिसके दम पर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का सफर तय करते हुए खुद का अपना दमदार न्यूज़ चैनल कायम कर लिया। उनके हिंदी और अंग्रेजी दोनों न्यूज़ चैनल इस समय सर्वोच्च ऊंचाई पर दर्शकों द्वारा पसंद किए जा रहे हैं।

कुंडली में नीच भंग राजयोग इस तरह से हुआ है…

गुरु मकर राशि में नीच का है, और इस राशि पर उच्च का होने वाला ग्रह मंगल केंद्र स्थान में बैठा हुआ है। यह स्वगृही मंगल ही नीच भंग राजयोग बना रहा है और दसवें स्थान में बैठकर लग्न को बहुत ही मजबूती के साथ देख रहा है। ऐसा मंगल अपने आप में खुद भी बहुत प्रचंड तेवर वाला माना जाता है, जैसा कि हिंदुस्तान की जनता अरनव गोस्वामी के तेवर में देख रही है।

अब देखते हैं की वर्तमान में ऐसी कौन सी दशा चल रही है जिसके कारण अरनव गोस्वामी महाराष्ट्र सरकार के तमाम कारनामें लगातार उजागर कर रहे हैं, साथ ही बॉलीवुड में फैली तमाम गंदगियों को खोद कर हिंदुस्तान की जनता के सामने रख रहे हैं। बॉलीवुड का वह कीचड़ जो पिछले दो ढाई दशक से भीतर ही भीतर बजबजाता हुआ बहुत ज्यादा बदबूदार हो चुका था, उस गंदगी को ऊपर लाकर जनता के सामने बेनकाब कर रहे हैं अरनव गोस्वामी। अरनव की कुंडली में आखिर ऐसे कौन से ग्रहों के ऐसे योग हैं जिसके कारण वह जो सच्चाई सामने ला रहे हैं उससे पूरा बॉलीवुड और महाराष्ट्र सरकार एकजुट होकर उनके चैनल का मुंह बंद कराने की कोशिश में लगी हुई है ??

दरअसल अरनव की कुंडली में इस समय शनि की महादशा चल रही है, जिसमें बृहस्पति का अंतर है। शनी चंद्रमा से पांचवें स्थान में राशि कुंडली अर्थात कुंभ का स्वामी होकर केतु के साथ राजयोग बना रहा है।

#ज्योतिष_के_जानकार_अरनव_की_चंद्र_कुंडली_पर_गौर_करें राशि का स्वामी शनि दसवें स्थान में बैठे शुक्र से अष्टम बैठा हुआ है। अर्थात राशीष शनि और शुक्र का #षड़ाष्टक_योग कुंडली में मौजूद है। दसवां स्थान अर्थात सरकार (सत्ता) से इस समय कट्टर शत्रुता के योग बन रहे हैं और वह शत्रुता जगजाहिर है, पूरी दुनिया देख रही है।

परंतु क्योंकि बृहस्पति की अंतर्दशा है इसलिए अरणव को जनता का पूरा नैतिक समर्थन प्राप्त है। कोई भी कीमत चुकाने के लिए तैयार गोस्वामी कदम पीछे नहीं हटाएंगे। उनका बृहस्पति नीचभंग राजयोग बनाता है। बृहस्पति अर्थात धर्म का कारक, अर्थात नैतिकता का कारक।। यह बृहस्पति अर्णव को अल्टीमेटली विजय दिलाएगा, परंतु खतरे बहुत हैं। खतरे यहां तक कि इसी दौरान बृहस्पति की ही अंतर्दशा के दौरान उन पर प्राणघातक हमले भी हो सकते हैं।

ऐसा कोई भी हमला सरकार की ओर से नहीं, बल्कि बॉलीवुड में सक्रिय माफियाओं की तरफ से हो सकता है।

शुक्र ही बॉलीवुड का कारक है और अरनव को इस समय मुख्य रूप से शुक्र ही अपना शत्रु मान रहा है। शुक्र राहु से दृष्ट है, खूंखार राहु की 12वीं दृष्टि शुक्र पर है, और ऐसा राहु की राक्षसी ताकत लिए हुए त्रिपाद कुदृष्टि से शनि अर्थात जातक को देख रहा है। पर अर्नव का रक्षक सेनापति मंगल भी अपनी आठवीं दृष्टि से शुक्र को देख रहा है।

तो जाहिर है कि ऐसा शुक्र शनि के लिए खतरनाक तो होगा, अर्थात अरनव पर प्राणघातक हमले की तो पूरी आशंका है परंतु मंगल इस बार बृहस्पति के निर्देश पर (क्योंकि मंगल स्वयं बृहस्पति का नीचभंग कर रहा है इसलिए बृहस्पति की अंतर्दशा होने के कारण यह मंगल) अरनव का साथ देगा…. (अर्थात ईमानदार आईपीयस अधिकारी रक्षक बनेंगे) और ऐसी स्थिति में विजय अर्णव गोस्वामी की होगी

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित