Skip to main content

पढिये किसान की मेहनत – नागौर के किसान ने फूलो की खेती करके कमाए करोड़ों रुपये

 

नागौर के देशवाल गांव के गणेशाराम प्रजापति ….
16 वर्ष पहले आप गोआ घूमने गए थे और वहां की हरियाली देख के आपके मन मे कुछ अलग हट के करने का विचार आया ….
आपके हिस्से 85 बीघा पैतृक कृषि योग्य ज़मीन आयी है जिसमें से 80 बीघा में आप खरीफ सीजन की खेती एवं शेष 5 बीघा में हिबिसकस सबदरिफा जैसी आयुर्वेदिक औषधीय गुणों वाली पौध लगाते हैं ….
आप अपनी मासिक आय का 20% हिस्सा औषधीय पौध पर खर्च करते हैं ….
आपने अब तक विगत 16 वर्षों में 2 लाख आयुर्वेदिक औषधीय पौध लगाई है ….
आजकल आप किसानों को जैविक खेती के अभियान की और अग्रसर करने का कार्य कर रहे हैं ….
कृषि एवं पर्यावरण के क्षेत्र में आपके इन्हीं उत्कृष्ट कार्यों को देखते हुए अमेरिका में हुए पर्यावरण सेमिनार में आपको 2 वार आमंत्रित किया गया है ….
आप पर्यावरण में रुचि दिखाने वाले व्यक्तियों एवं संस्थाओं को भी पौधे उपलब्ध करवाते हैं ….
आपने राजस्थान स्टेट ऑर्गेनिक सर्टिफिकेशन एजेंसी के जरिये अपनी 80 बीघा जमीन का सर्टिफिकेट ऑर्गेनिक खेती के लिए बनवाया है ….
आपका मानना है ऑर्गेनिक खेती में उपज भले थोड़ी कम हो किन्तु फसलों/अन्न की गुणवत्ता शानदार होती है ….
आपके द्वारा उगाई जाने वाली आयुर्वेदिक औषधीय पौध एवं जड़ी बूंटीयों का निर्यात जर्मनी तक होता है …. इनका उपयोग कैंसर में रक्त संचरण बढ़ाने …. मधुमेह के उपचार में …. पत्थरी के निवारण एवं विभिन्न असाध्य बीमारियों में किया जाता है ….
आप अश्वगंधा तुलसी गुगुल शतावरी के पौध भी लगाते हैं ….
आप नागौर जोधपुर जयपुर दिल्ली सहित देश के अनेक शहरों एवं अमेरिका जर्मनी तक विभिन्न सरकारों संस्थाओं द्वारा कृषि क्षेत्र में किये उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित हो चुके हैं ….
आप राजस्थान असोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका संस्था द्वारा भी वर्ष 2011 में अमेरिका में सम्मानित हो चुके हैं ….
वर्ष 2018 में तत्कालीन एयर-मार्शल हरिकुमार भी आपको दिल्ली बुलाकर एयरफोर्स ऑडिटोरियम में सम्मानित कर चुके हैं ….
आप बीएससी एमबीए है एवं बच्चों को ट्यूशन पढ़ा कर अपनी आजीविका का संचालन करते हैं ….
कृषि पर्यावरण एवं आयुर्वेदिक औषधीय क्षेत्र में आपके धाकड़ कार्य हेतु एवं नागौर जिले का नाम अंतर्राष्ट्रीय पटल पर रोशन करने हेतु आपको उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं!! 

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित