Skip to main content

राजस्थान के दिग्गज नेता जसवंत सिंह के बारे में जानिये रोचक बातें

 

जसोल जन्मयो जसवंत, दिल्ली पाड़ी धाक।
मालाणी थारी किस्मत रूठी,रतन रयो नी आज।।

वर्ष 2014 में कद्दावर भाजपा नेता जसवंतसिंह जी ने अपना अंतिम लोकसभा चुनाव नामांकन भरा था ….
बाड़मेर जैसलमेर संयुक्त लोकसभा सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ….
इस नामांकन फार्म में जसवंतसिंह जी ने अपनी सम्पति में 3 अरबी घोड़े …. 13 बंदूक …. 51 गायें एवं 7 करोड़ की चल अचल पैतृक तथा स्वयं द्वारा अर्जित सम्पति दिखाई थी ….

2 अरबी घोड़े जसवंतसिंह जी को सऊदी के युवराज से गिफ्ट में मिले थे ….

जोधपुर में जसवंतसिंह जी के फॉर्म-हाउस में देशी नस्ल की गायों एवं देशी नस्ल के सांडों का संवर्द्धन एवं संरक्षण किया जाता है ….
जसवंतसिंह जी का जन्म राजस्थान के पाक सीमावर्ती बाड़मेर जिले के जसोल कस्बे में हुआ था …. यह राजस्थान का मारवाड़ अंचल है एवं इस क्षेत्र को मारवाड़ अंचल का मालाणी क्षेत्र कहा जाता है ….

 

जसोल कस्बा मां भटियाणी के मंदिर एवं समाधिस्थल के कारण विश्वविख्यात है ….
जसवंतसिंह जी का जन्म एक सम्पन्न परिवार में हुआ था …. आपने अजमेर के मेयो कॉलेज एवं राष्ट्रीय रक्षा अकादमी खड़कवासला से शिक्षा ग्रहण की थी ….

आप 1960 के दशक में भारतीय सेना के बड़े अधिकारी रहे हैं ….
आप मारवाड़ (जोधपुर) के वर्तमान महाराजा साहेब श्री गजसिंह जी राठौड़ के अत्यंत करीबी माने जाते हैं ….
1960 के दशक में ग्वालियर में आयोजित सेना की एक पार्टी में जसवंतसिंह जी की मुलाकत अटल जी से हुई थी …. उस पार्टी में दोनों के बीच काफी बातचीत हुई थी ….

ग्वालियर की पार्टी में हुई जसवंत अटल की यह मुलाकात बहुत जल्द प्रगाढ़ दोस्ती में बदल गयी ….
आप भाजपा के संस्थापक सदस्यों में से एक रहे हैं ….

अटल अक्सर कहा करते थे प्रमोद (महाजन) मेरा लक्ष्मण है तो जसवंत मेरा हनुमान है ….
पोकरण परमाणु परीक्षण के बाद भारत पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों को अमेरिका जा के हटवाना हो या रूठी जयललिता को मनाना हो आप सदैव अटल सरकार के संकटमोचन रहे ….

आप अटल सरकार में 2 वार देश के वित्त एवं 1 वार विदेशमंत्री रहे ….
आपको वर्ष 2001 में सर्वश्रेष्ठ सांसद का सम्मान मिला ….
आपके द्वारा लिखित पुस्तक जिन्ना-इंडिया, पार्टीशन, इंडिपेंडेंट में नेहरू गांधी की आलोचना एवं जिन्ना की प्रशंसा के कारण आपको भाजपा से निलंबित किया गया था किन्तु पुनः पार्टी में ले लिया गया था ….

2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी ने आपको टिकिट नहीं दी तो आपने अपने लोकसभा क्षेत्र बाड़मेर-जैसलमेर से निर्दलीय ताल ठोक के लाखों वोट अर्जित किये थे और नंबर 2 पर रहे थे ….
आज प्रातः आपने आर्मी हॉस्पिटल दिल्ली में अंतिम सांस ली एवं सदा के लिए आप गोलोकवासी हो गए ….
रेतीले धोरों की भूमि मरुभूमि मारवाड़ मालाणी राजस्थान एवं देश का नाम अंतर्राष्ट्रीय पटल पर रोशन करने वाले कर्नल जसवंतसिंह जी जसोल को श्रद्धापूर्ण विनम्र श्रद्धांजलि ….

मां भवानी पुण्यात्मा को अपने श्री-चरणों में स्थान प्रदत्त करे ….
प्रभु श्रीराम शौक संतप्त परिवार को सम्बल प्रदान करे ….

पहले अटल और आज अटल युग का एक स्तम्भ अटल का हनुमान सदैव के लिए नश्वर संसार से विदा हो गया ….
धुर राजनीतिक विरोधी वसुंधरा जी भी जिनके देहांत पर श्रद्धांजलि अर्पित करने आये मारवाड़ के वो जसवंत आज शून्य में सम्माहित हो गये हैं ….
ॐ शांति शांति शांति!! ….

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

नाबालिग प्रेमी जोड़े ने की आत्महत्या - रिश्ते में भाई-बहन थे दोनों

  उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के उझानी क्षेत्र में एक गांव के लड़का लड़की ने आत्महत्या कर ली रिश्ते में वो ममेरे-फुफेरे भाई बहन थे और उन दोनों में प्रेम प्रसंग चल रहा था। एक गांव के 17 वर्षीय युवक का गांव में ही रहने वाली अपनी 16 वर्षीय फुफेरी बहन से प्रेम प्रसंग चल रहा था।कुछ दिन पहले एक ग्रामीण ने उन दोनों को साथ बैठे बातचीत करते देख लिया था।  जब उनके घर वालो को इस बात का पता चला की उन दोनों में इस प्रकार का अवैध संबंध है तो वो दोनों डर गए और दोनों ने मरने का फैसला ले लिया और मरने से पहले दोनों ने अपने -अपने परिजनों को बता दिया था की वो दोनों घर नहीं आना चाहते। ऐसी ही बातें प्रेमिका ने अपने पिता को फोन कर कहीं। प्रेमिका ने अपने पिता से यह तक कह दिया कि वह रिश्ते में खोट कर बैठी है, इसलिए प्रेमी के साथ ही जान दे रही है। इसके बाद उनके परिवार वालों में खलबली मच गई।  दो घंटे बाद करीब पांच बजे परिवार वाले ढूंढते हुए तालाब के पास पहुंचे तो पेड़ पर दोनों के शव फंदे से झूलते मिले। प्रधान से घटना की जानकारी मिलने पर प्रभारी निरीक्षक विशाल प्रताप सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और शव को

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स