Skip to main content

भारत-चीन विवाद : वो कहानी जिसे शुरू करने वाले न रहे लेकिन अंत करने वाले मौजूद है

 

दो दिग्गज, पुराना विवाद और अबकी बार कोई भी पीछे हटने को तैयार नही,कभी हटे तो कभी फिर से कब्जा करने की कोशिस ,
एशियाई देश भारत और चीन का बॉर्डर इन दिनों विवाद का मुख्य स्थान बन गया है, इधर भारत सरकार का कहना है की चीनी सैनिक बदले की कारवाई के लिए भारत को न उकसाए उधर चीन का कहना है की भारत बार बार चीनी सीमा पर अवैध निर्माण के लिए विवाद को बधा रहा है

चीन और भारत का विवाद दशको से चलता आ रहा है,तत्कालीन भारत के पीएम ने चीन के साथ अपने संबंधो को बहुत ही ज्यादा बढाने की कोशी की लेकिन उसके बावजूद चीन ने ऐसा न किया, चीन को लगा की भारत सरकार अपने सैनिको या अपने देश की सीमायों से ज्यादा पर्सनल ब्रांडिंग में लगे हुए है , नेहरु के हिंदी- चीनी भाई भाई के स्लोगन के बाद भी चीन ने कुछ महीनों बाद ही भारत पर आक्रमण कर दिया और अरुचाल प्रदेश की कई सिदो एकड़ जमीन पर कब्जा करने के बाद भी अपनी चीनी चाल से बाज नहीं आया

इधर भारटी के ततकालीन पीएम ने अपने सैकड़ो सैनिको की बली देने के बाद भी चीनियों के साथ निकटता बनाये रखी , चीन की इस हरकत के बावजूद वो इसे सिर्फ बंजर जमीन बताते हुये चीन को खुली छोट दे दी थी



नेहरु के बाद भी चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आया लेकिन जवाब देने वाली सरकारें नही आई,2014 में आई सरकार ने भी यही लाइन पकड ली और चीन के प्रेसेदेंत के साथ इलू इलू करने में लगे रहे उसके बाद जब सरकार दुबारा आई और चीन ने लगभग 20 से ज्यादा सैनिको की बली देने के बाद सरकार को होश आया और अब चीन पर कड़ी कारवाही करते हुए सबसे पहले बॉर्डर पर सैनिको को खुली छूट दी है जिसके बाद से चीन का कहना है की भारतीय सैनिक सीमा पार करते हुए चीन के बॉर्डर पर अवैध निर्माण कर रहे है इसके बाद से ही चीनी कम्पनीज पर सिकंजा कसते हुए उनके तमाम कामो पर रोक लगा दी है और लोगो की प्राइवेसी को ध्यान में रखते हुए चीनी एप्स को बैन कर दिया गया है ..एक अच्चा संकेत है की हम दुश्मनों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करेंगे

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

"पुलिसवाले कहते हैं - पहले गाड़ी में डीजल डलवाओ फिर ढूंढेंगे तुम्हारी बेटी" - दिव्यांग महिला का पुलिस पर आरोप

  उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में लगभग हर रोज आपराधिक घटना के नए-नए केस हो रहे हैं।और उन अपराधियों को पकड़ने के लिए कानपुर की पुलिस बार-बार फेल हो रही है। कानपुर के डीआईजी के दफ्तर के बाहर एक दिव्यांग महिला ने रो-रोकर अपनी बच्ची को ढूढ़ने की गुहार लगा रही थी। और उस पीड़िता की माँ जोर -जोर से कह रही थी कि साहब एक महीने चला गया है, अब तो हमारी बच्ची से हमें मिलवा दो। महिला का कहना है कि साहब जब पुलिस वालों ने बच्ची को ढूढ़ने के लिए डीजल के पैसे मांगे थे, वह भी दिए थे मैंने। फिर भी मेरी बच्ची को पुलिस वालों ने नहीं ढूंढा। उस पीड़ित दिव्यांग महिला की गुहार सुनकर डीआईजी कानपुर डॉ. प्रीतिंदर सिंह भी दंग रह गए। उन्होंने पीड़ित विकलांग महिला को बैठाकर उसे पानी पिलाया। इसके बाद उसकी समस्या को सुना और जल्द से जल्द बच्ची को तलाशने का आश्वासन भी दिया। बच्ची की पीड़ित माँ ने कहा, की पुलिस वालों ने धमकाया 'कई बार वो कहते हैं कि चल यहां से। मैंने पुलिस को रिश्वत नहीं दी है, मैं झूठ नहीं बोलूंगी। लेकिन हां, मैंने उनकी गाड़ियों में डीजल भरवाया है। मैंने उन्हें 3-4 बार के लिए पैसा दिया है। उस पुलिस चौकी

पति को बंधक बनाकर उसके सामने ही पत्नी से 17 युवकों ने किया गैंगरेप

  मंगलवार की देर शाम दुमका क्षेत्र के घांसीपुर गांव में एक बहुत ही भयावह घटना घटी है। यहां पर एक बेबस पति के सामने ही उसकी पत्नी के साथ 17 युवकों ने दुष्कर्म  किया। पीड़िता अपने पति के साथ घांसीपुर साप्ताहिक हाट से लौट रही थी उसी समय वहा मौजूद लड़को ने उनको पकड़कर इस शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पांच युवकों ने पीड़िता के पति के हाथ-पैर पकड़कर उनको नीचे दबोच लिया और इस दौरान चीखने चिल्लाने और विरोध करने पर उन लड़को ने पीड़िता के पति के साथ मारपीट करते हुए उसकी फिर गर्दन पर आरोपी युवकों ने चाकू रख दिया। फिर आरोपी बेबस पति के सामने उसकी पत्नी को वही झाड़ीयो में ले गए और बारी-बारी से 17 युवकों ने दुष्कर्म किया। इस गैंगरेप के बाद पति-पत्नी को उनकी हालत पर छोड़कर सभी युवक वहा से फरार हो गए। पीड़िता ने घटना की जानकारी पंचायत के मुखिया, ग्राम प्रधान एवं अन्य ग्रामीणों को दी जिसके बाद ग्रामीण पीड़ित दंपति को लेकर मुफस्सिल थाना पहुंचे और इस घटना से पुलिस को अवगत करवाया। इस घटना की जानकारी होते ही डीआईजी सुदर्शन प्रसाद मंडल, एसपी अम्बर लकड़ा एवं डीएसपी विजय कुमार तुरंत मुफस्स