Skip to main content

पढ़िए कितने महान थे लाल बहादुर शास्त्री जिन्होंने दुश्मनों को छठी का दूध याद दिला दिया

 

Lal Bahadur Shastri

बचपन में राजस्थान के स्कूली पाठ्यक्रम में एक अध्याय पढ़ा था जो मेरे जेहन में अमिट है
प्रधानमंत्री शास्त्री जी अपने निवास (प्रधानमंत्री निवास) के लोन में पौधों के खुरपी लगा के पानी दे रहे थे उस वक़्त एक पत्रकार उनसे मिलने आया
शास्त्री जी की बनियान फटी हुई थी मन्ने एकदम जालीदार और पत्रकार हड़बड़ाहट में उनको पहचान नहीं पाया
पत्रकार ने शास्त्री जी को माली समझ के अपना परिचय देते हुए उनसे कहा साहेब से कहो मैं उनसे मिलना चाहता हूँ
शास्त्री जी मकान के अंदर

प्रधानमंत्री बनने के बाद शास्त्री जी की पत्नी व बच्चों ने उनसे कार खरीदने की ज़िद की थी …. पत्नी बच्चों की हठ के आगे झुक के शास्त्री जी ने अपने सचिव से पूछा मेरे बैंक खाते में कितने पैसे हैं ??
सचिव ने कहा सर 7000/-

फ़िएट कार उस वक़्त 12,000/- की आती थी और शास्त्री जी ने बाकी 5000/- का लोन पंजाब नेशनल बैंक दिल्ली की चांदनी चौक शाखा से उधार लिया था तब वो अपनी पत्नी बच्चों की ख्वाहिश पूरी कर पाये थे फ़िएट खरीद के

(शास्त्री जी की फ़िएट का चित्र पोस्ट में सलंग्न है)



पीएनबी का 5000/- का लोन चुकाने से पहले शास्त्री जी चल बसे प्रधानमंत्री इंदिरा ने शास्त्री जी की विधवा पत्नी लीला शास्त्री से पेशकश करी कि वो भारत सरकार के बिहाफ़ पर पीएनबी का लोन माफ करवा रही है

लीला जी ने इंदिरा जी को लोन माफी से मना कर दिया और अपने दिवंगत पति की हर माह आने वाली पेंशन से 4 साल तक किश्तें जमा कर के पीएनबी का लोन चुकाया था

यह पंजाब नेशनल बैंक की खुशकिस्मती थी कि लालबहादुर उनके ग्राहक थे


शास्त्री जी शासन (अपने प्रधानमंत्री कार्यालय) का काम अपने घर पर भी किया करते थे …. शास्त्री जी घर पर दो मोमबत्तियां रखते थे …. एक सरकारी मोमबत्ती एक निजी मोमबत्ती …. सरकारी काम के वक़्त सरकारी मोमबत्ती जलाते थे और काम खत्म हो जाने के बाद वो वाली मोमबत्ती बुझा के अपनी निजी मोमबत्ती जलाया करते थे

सर्दियों में पहनने के लिए शास्त्री जी के पास अपना कोट अपनी स्वेटर नहीं थी

नेहरू ने अपना पुराना कोट दिया था शास्त्री जी को पहनने के लिए उस कोट को शास्त्री जी ने करोल बाग के एक टेलर से अपने नाप का फीट करवाया था

पाकिस्तान के ऑपरेशन जिब्राल्टर का 1965 में शास्त्री जी ने मुंह तोड़ के जवाब दिया था …. सदियों बाद भारतीय सेना अपना बॉर्डर क्रॉस कर के शत्रु की मांद में घुसी थी …. पाकिस्तान का जबड़ा चिर के शास्त्री जी ने विजय-श्री का वरण भारत को करवाया था

ताशकंद समझौते पर शास्त्री जी जब जा रहे थे तो चिंतित पत्नी ने कहा एक नया कोट ले लो वहां सर्दी बहुत पड़ती है

शास्त्री ने पत्नी के सर पर हाथ फेरते हुए कहा …. अभी हमारे देश के वित्तीय हालात ठीक नहीं है …. अमेरिका ने गेंहू भेजना बन्द कर दिया है देश की जनता सप्ताह में एक दिन उपवास करती है …. युद्ध में देश की आर्थिक स्थिति प्रभावित हुई है …. एक काम करो मेरा पुराना वाला कोट (नेहरू वाला) धो के तुरपाई कर दो जरा सी सिलाई उधड़ गयी है उसकी

शास्त्री जी पुराना वाला सेकंड-हैंड कोट पहन के ताशकंद गए थे लेकिन ये देश का दुर्भाग्य था कि वहां से उनकी पार्थिव देह ही वापस भारत आयी थी

प्रयागराज में आज भी एक दीवार ऐसी है जो 60 वर्ष बाद भी शास्त्री जी के लिए जनता से वोट मांग रही है ….
यह दीवार प्रयागराज के खिलौना बाजार में है 

खिलौना बाजार के लोकनाथ इलाके की कोतवाली की एक दीवार पर लाल रंग से आज भी पुता हुआ है
आप अपना अमूल्य वोट श्री लालबहादुर शास्त्री को दें  चुनाव चिन्ह दो बैलों की जोड़ी (कांग्रेस)

यह दीवार गवाह है उस दौर की जब प्रयागराज का जनसमूह शास्त्री जी के साथ था
शास्त्री जी 1957 और 1962 में प्रयागराज से सांसद चुने गए थे यह प्रयागराज और शास्त्री दोनों का सौभाग्य था

1965 में शास्त्री जी ने पाकिस्तान को धूल चटा दी थी

1965 में भारत पाक के बीच युद्ध के दौरान प्रयागराज जिले के करछना विधानसभा के उरुवा ब्लॉक में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए शास्त्री जी ने देश से पहली बार कहा था 
जय जवान जय किसान

यह नारा हमेशा के लिए भारतीय राजनीति में अमर हो गया था/है ….
प्रयागराज के अलावा शास्त्री जी का सम्बन्ध काशी से भी था ….
जो महान लोग होते हैं दुनियां उनको सदैव याद करती है ….
इतिहास सबका आंकलन करता है!! ….

Comments

Popular posts from this blog

दिल्‍ली : मेट्रो पकड़ने की हड़बड़ी में कर बैठा बड़ी भूल - गलती मानने पर मिले दो लाख रुपये

  CISF  के जवानो ने  ईमानदारी और सूझबूझ के साथ अपनी ड्यूटी निभाई इस ईमानदारी  का पता तो तब चला जब शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर यात्रीयो कि भीड़भाड़ में एक यात्री अपना दो लाख रुपये से भरा बैग स्टेशन पर ही भूल गया। अकेले बैग को देखकर वन तैनात CISF के जवानों ने उस लावारिस बैग को सुरक्षित रखवा दिया । उस बैग कि जांच कि गयी उसमे कुछ भी गलत चीज नहीं मिलने पर ही बैग को खोला गया तो उससे रुपये बरामद हुए। उसे सुरक्षित रखवा दिया गया और यात्री के आने पर रुपये उन्हें सौप दिए गए। रुपये सुरक्षित मिलने पर यात्री ने जवानों की सतर्कता और ईमानदारी की सराहना की। CISF के वरिष्ठ अधिकारी ने अपने बयान में बताया कि यह घटना दस फरवरी की रात करीब साढ़े आठ बजे घटित हुई । शास्त्री पार्क मेट्रो स्टेशन पर तैनात सीआइएसएफ के जवानों ने बैगेज जांच मशीन के समीप एक लावारिस बैग पड़ा देखा था। जिसके बाद उन्होने बैग के संबंध में सभी यात्रियों से पूछताछ की , लेकिन किसी ने भी बैग को नहीं अपनाया । इसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से बैग की तलाशी ली गई। इसमें बैग में कोई खतरनाक चीज नहीं मिली।  जब पुलिस  ने उस बैग कि जाँच की तो , तलाशी ल

ये लोग बिलकुल न लगवाएं कोवैक्सीन - भारत बायोटेक ने लोगों को चेताया

  कोरोना से निजात पाने के लिए देशभर में टीकाकरण का काम लगातार जोर -शोर से चल रहा है. इसी बीच भारत बायोटेक ने फैक्टशीट में कहा है कि इस टीकाकरण को किस बीमारी वाले लोगों को नहीं लगवानी चाहिए. यदि किसी भी बीमारी के कारण  से आपकी इम्युनिटी कमजोर है या आप कुछ ऐसी दवाएं ले रहे हैं, जिससे आपकी इम्युनिटी प्रभावित होती है तो आपको कोवैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए भारत बायोटेक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है। इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि अगर आप इम्युनोडेफिशिएंसी से ग्रस्त हैं या इम्युनिटी सप्रैशन  (Immunity Suppression) पर हैं, यानी आप किसी अन्य ट्रीटमेंट के लिए इम्युनिटी कम कर रहे हैं तो कोरोना वैक्सीन ले सकते हैं. लेकिन अब भारत बायोटेक ने अपने बयान में ऐसे लोगों को कोवैक्सीन न लगवाने की सलाह दी है। भारत बायोटेक के मुताबिक- ये लोग भी कोवैक्सीन न लगवाएं। जिन्हें एलर्जी की शिकायत रही है । बुखार होने पर न लगवाएं । जो लोग ब्लीडिंग डिसऑर्डर से ग्रस्त हैं या खून पतला करने की दवाई ले रहे हैं । गर्भवती महिलाएं, या जो महिलाएं स्तनपान कराती हैं । इसके अलावा भी स्वास्थ्य संबंधी गंभीर मामलों में नहीं लगवानी

किसानो का पुलिस को साफ़ जवाब - हर हाल में दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे

  किसान आंदोलन जो हो रहा है उसका आज 57वां दिन है. सरकार ने किसान आंदोलन कर रहे किसानो की कुछ मांगों को माना लेकिन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब के साथ -साथ  कई राज्यों के किसान दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. किसानों का कहना है की वो 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालेगें इस बात का किसानो ने खुलेआम ऐलान किया है. इसी मुद्दे पर किसान संगठनों और दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के बीच आज बैठक हुई. बैठक में किसानों ने साफ किया है कि वो हर हाल में दिल्ली के आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे। दिल्ली पुलिस ने भी कहा है कि वो गणतंत्र दिवस के मौके पर आउटर रिंग रोड में ट्रैक्टर रैली की इजाजत नहीं दे सकते हैं. दिल्ली पुलिस ने किसानो को एक सुझाव दिया है कि किसान KMP हाईवे पर अपना ट्रैक्टर मार्च निकालें. गणतंत्र दिवस को देखते हुए ट्रैक्टर मार्च को सुरक्षा देने में कठिनाई हो सकती है । माना जा रहा है कि नए कृषि कानूनों पर हो रहे विवादों को दूर करने के लिए बुधवार को हुई 10वें दौर की बैठक में केंद्र सरकार ने थोड़ी नरमी दिखाई और कानूनों को 1.5 साल के लिए निलंबित