Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2020

इजराइल और बेहरीन में हुआ समझौता,अब विरोधी नही, बनेंगे बिजनेश पार्टनर

  मिडिल ईस्ट देशो में इन दिनों धमाको के बजाय यारी-दोस्तों के गीत गाये जा रहे है,कभी लोकतंत्र के नाम पे हथियारबंद लोगो के जत्थे निकला करते थे,चारो तरफ शहरों के शहर धमाको में खत्म हो जात्ये थे वहां आज बिजनेस से लेकर प्रोडक्टिविटी की बातें हो रही है सरकारें पुराने ढर्रे को छोडकर अपने दुश्मन देशो के साथ हाथ मिला रही है अब इजराइल के साथ आया बहरीन  अरब देशो ने इजराइल के साथ सम्बन्ध अच्छे करने में in दिनों बड़ी तेजी दिखाई है जिसका वैसे तो पूरा श्रेय अमेरिकी प्रेसिडेंट ट्रम्प और उसकी सरकार को दिया जा रहा है लेकिन तमाम अटकलों के बावजूद कुछ और भी है जिसे ये देश इजराइल के साथ सम्बन्ध बनाने पर राजी हुए है दोनों देशो के टाई आप की खबरे आते ही वैश्विक नेताओ ने अपनी राय देना शुरू कर दिया एक तरफ जहाँ इसे गलत बताया जा रहा है वहां दूसरी तरफ कई देश जो की खुद अरब देश है वो इसे एक सही कदम बता रहे है सबसे पहली प्रतिक्रिया  फिलिस्तीन  की तरफ से आई है जिसके सोशल अफेयर मंत्री ने कहा है की ये फिलिस्तीन के साथ धोखा देने वाली बात है,पिछले महीने uae और इजराइल के टाई अप के बाद ये खबर बहुत ही दुखद है और हम कहना चाहते

पढ़िए कितने महान थे लाल बहादुर शास्त्री जिन्होंने दुश्मनों को छठी का दूध याद दिला दिया

  बचपन में राजस्थान के स्कूली पाठ्यक्रम में एक अध्याय पढ़ा था जो मेरे जेहन में अमिट है प्रधानमंत्री शास्त्री जी अपने निवास (प्रधानमंत्री निवास) के लोन में पौधों के खुरपी लगा के पानी दे रहे थे उस वक़्त एक पत्रकार उनसे मिलने आया शास्त्री जी की बनियान फटी हुई थी मन्ने एकदम जालीदार और पत्रकार हड़बड़ाहट में उनको पहचान नहीं पाया पत्रकार ने शास्त्री जी को माली समझ के अपना परिचय देते हुए उनसे कहा साहेब से कहो मैं उनसे मिलना चाहता हूँ शास्त्री जी मकान के अंदर प्रधानमंत्री बनने के बाद शास्त्री जी की पत्नी व बच्चों ने उनसे कार खरीदने की ज़िद की थी …. पत्नी बच्चों की हठ के आगे झुक के शास्त्री जी ने अपने सचिव से पूछा मेरे बैंक खाते में कितने पैसे हैं ?? सचिव ने कहा सर 7000/- फ़िएट कार उस वक़्त 12,000/- की आती थी और शास्त्री जी ने बाकी 5000/- का लोन पंजाब नेशनल बैंक दिल्ली की चांदनी चौक शाखा से उधार लिया था तब वो अपनी पत्नी बच्चों की ख्वाहिश पूरी कर पाये थे फ़िएट खरीद के (शास्त्री जी की फ़िएट का चित्र पोस्ट में सलंग्न है) पीएनबी का 5000/- का लोन चुकाने से पहले शास्त्री जी चल बसे प्रधानमंत्री इंदिरा ने शास्त्